सेवा

आलिया खान

सेवा भाव सदा मन से होता है l

निर्मल और प्रेम से होता है l 

बिना फल की आशा किये होती है l

ना छोटा, ना बड़ा, जीव -जन्तु देखे,

ना पशु - पक्षी, ना पेड़ - पौधे देखे

देखे तो बस एक पवित्र मन देखे,

सेवा हम सब की करते है जरुरी नहीं है

सेवा एक की ही की जाए संसार मे

हर वस्तु है जिस से प्रेम किया जा सकता है l

दुनियाँ मरने के बाद उस इंसान के लिए

दान पुण्य करती है उसके लिए हर वो काम करती है

जिससे उसकी तृप्ती  हो सके l

पर वो तो नहीं देखता है ना जिसके लिए वो कर रहे है

अगर सेवा करनी ही है तो उसके जीते जी की जाए,

जिससे वो देख सके और हमें उसकी सेवा कर के

एक अंनत जैसा सुःख मिल सके l


आलिया खान.......

दिल्ली...

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image