स्वतंत्र भारत जीतेगा कोरोना हारेगा

       

मधु अरोड़ा

लाशों पर लाशें बिछ रही,

 मातम है छाया ।

 घर-घर मे कोरोना ने पांव पसारे।

  कैसा वक्त है आया  


 न घर में कोई चैन से 

  कमरों में हैं बंद

   ताप से कोई पीड़ित है ,

   कोई खास रहा बेदम ।

   अस्पतालों में जगह नहीं,

    इलाज से लाचार 

    चारों तरफ दर्द की परछाई ,

    राहा सूझती नहीं आज 

    शादी ब्याह की बात तो छोड़ो,

     हो रही बिन शोर-शराबे के ।

     बस हर कोई अपने आप को 

    करे बचाने का प्रयास 

    घर बच जाएगा।

     घर बचेगा तो देश स्वयं बच जाएगा ।

     नियमों का पालन करें सरकार के,

      डबल मास्क लगाएं ।

      जरूरत पर ही बाहर निकला जाए।

       हाथ ना मिलाएं दिल से दिल मिलाए।

        हाल-चाल पूछ,

         लोगों का थोड़ा मरहम लगाए ।

         खुद को बचाएंगे हारेगा कोरोना‌ ।

         भारत विजयी होगा दूर होगा कोरोना ।

         इक दिन ऐसा आएगा ,

         खुशी की लहर लाएगा।

         सब मिलकर उस दिन ,

         विजय दिवस मनाएंगे 

         खुशी से नाचेंगे गाएंगे

          हर्षोल्लास मनायेंगे।।

                                 दिल की कलम से 

                                 मधु अरोड़ा

                                 

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
भिण्ड में रेत माफियाओं के सहारे चुनाव जीतने की उम्मीद ?
Image
सफलता क्या है ?
Image