बात मानीं अब छोड़ीं मनमानीँ-

 बात मानीं अब छोड़ीं मनमानीँ-

नादानी से बा हानी भाईजी।

बा हानी भाईजी बा हानी भाईजी-

तनि सोंची नात बढ़ी परेसानी।

नादानी से बा••••••••।।


जागीं भोरे प्रणयाम करीं।

जोग जाप व्यायाम करीं।

गलगलाईं दूनो टायेम गर्म पानी।

नादानी से बा•••••••••।।


गुनगुना जल असनान करीं।

गरमा गरम जलपान करीं।

आजमाईं भाई नुक्सा हिंदुस्तानी।

नादानी से बा•••••••••।।


जादा मत हाट बाजार करीं।

घरहीं रहिके उचपार करीं।

मत करीं रउआ जादा आनाकानी।

नादानी से बा•••••••••।।


चिंता छोड़ी समधान करीं।

महमारी के निदान करीं।

हो कंगला दानी राजा चाहे रानी।

नादानी से बा•••••••••।।


अमरेन्द्र कुमार सिंह

आरा भोजपुर बिहार

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image