दिलों की रवायत

 


रेखा शाह आरबी

सबको हमसे है शिकायत

मनाने की हम से कवायत नहीं होती

सबके दिलों का रख लेते ख्याल

बस खुद पे कभी इनायत नहीं होती


दिल के बंजर इस जमी पर

बहुत है कांटो के दरख्त

खुद के खातिर हमसे तो

गुलाबों की कवायद नहीं होती


जाना है तो शौक से जाओ

हमको कांटों के दरमियां छोड़ के

सहरा से कभी मेरे खुदा

चश्मों की गुंजाइश नहीं होती


उमरे हमने है गुजारी बे सबब यूं ही

भटकते सुकून की तलाश में

आती-जाती इन हवाओं से

रुकने की हमसे फरमाइश नहीं होती


एक पत्थर के खातिर

खुद को पत्थर कर डाला

और पत्थरों में कभी

जिंदगी की गुंजाइश नहीं होती


रेखा शाह आरबी

जिला बलिया उत्तर प्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image