तरही ग़ज़ल

 

किरण झा 

बात दिल की जुबां पर लाये हैं

आज हम खुलकर मुस्कराये हैं


भूल सकते नहीं हैं हम तुझको

आप तो दिल में ही समाये हैं

कब से देखा किये थे हम सपना

कभी तुमको ना आजमाये हैं


अच्छी होती नहीं है खामोशी

हम जमाने के ही सताये हैं


बोल दे अब सभी हकीकत को

बात दिल की सभी बताये हैं


बीते लम्हों की याद आती है

साथ में जो "किरण" बिताये हैं

✍🏻✍🏻

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image