मानव यह समय भी गुजर जाएगा


सुनहरा प्रभात फिर लौट आएगा।

मानव यह समय भी गुजर जाएगा।


माना आज घनघोर अंधेरा है।

हवाओं में भी जहर का फेरा है।

आओ सब अन्तर्मन से जुड़ जाएँ,

आज वर्तमान भी सँवर जाएगा।


सुनहरा प्रभात फिर लौट आएगा।

मानव यह समय भी गुजर जाएगा।


भगवन भी तो ऊपर ही बैठा है।

उसनें भी तो यह सबकुछ देखा है।

एक आस पर ही विश्वास रखोगे,

तब ही यह महाकाल कट पाएगा।


सुनहरा प्रभात फिर लौट आएगा।

मानव यह समय भी गुजर जाएगा।


आज मानवता लाचार, अधीर है। 

माना की स्थिति बहुत ही गम्भीर है।

परमपिता कबतक चुप्पी साधेगा ,

शेषनाग फिर से पल्टी खाएगा।


सुनहरा प्रभात फिर लौट आएगा।

मानव यह समय भी गुजर जाएगा।


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

इन्दौर मध्यप्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image