जान में जान आ गई



सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

***************************


कानों में मधु तेरी आवाज आ गई,

मरते हुए की जान में जान आ गई।


कोरोना ने बंद करवाई मुलाकाते,

जीवन मे तब से अवसाद आ गई।


तरस गए हम मिसरी से बोलो को,

सुनते ही मुख पर मुस्कान आ गई।


ना जाने कब होगी खुल कर बातें,

बैठे बैठे घर में जैसे विषाद आ गई।


चौतरफा लग गई बहुत सी बंदिशें,

खिली हुई फसलों में लाग आ गई।


कभी तो बहाल होंगे बिगड़े हालात,

दुनिया हरकतों से है बाज आ गई।


मनसीरत कुदरत से ही हैं उम्मीदें,

तब समझेंगे हम वो बहार आ गई।

***************************

सुखविंद्र सिंह मनसीरत 

खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image