नया सवेरा


स्नेह का बंधन

 दिखता नहीं ,

पर बांधे रखता है

 दिलों को

 प्यार की

 मजबूत डोर से।

 तभी तो---

 दूर बैठे

 यह कहना---

 सब अच्छा होगा।

 सुनते हीं 

सारी चिंताएँ 

सारा डर

 रुई के फाहे

 की तरह

 उड़ जाता है,

 मन के 

पटल से।

 दुख की

 घनी बदली 

जब छाई हो 

और माथे पर पड़े

 एक स्नेहिल स्पर्श !

 जो क्षण में ही

 दूर कर देता है,

 काले बादलों को ।

तब लाता है 

सुख का सूरज,

 एक नया सवेरा !


  🌹अनामिका सिंह🌹

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image