पर्यावरण

 


डॉ मीरा त्रिपाठी पांडेय

 आज पर्यावरण दिवस है  - - - २

 मन में यही कसक  है - - -  २

   जन गण मन में यही दुषह है - -२

तन प्रदूषित, मन  प्रदूषित

जीवन का हर क्षण प्रदूषित   

मन में यही कसक है - - - २


धरती माता तुम्ही बताओ क्या कर दूँ इस जीवन में - - - २

प्रकृति माँ तुमही बतलाओ - - २

अधर बंद कर लूँ, कलम को धार 

दे दूँ  इस जीवन में- - -२ 


जन्मदिवस पर पेड़ लगाएं । 

 वसुन्धरे को खूब सजाए ।

जीवन का मान बढाए ।


सुमन खिलाएंगे, बृक्ष लगाएंगे

धरा प्रफुल्लित हो जायेगी।

सदाचार जब,करेगा मानव 

माँ प्रकृति भी मुसुकायेगी ।।


अमर रसीले  फूल - फल होंगें ।

मीठा- मीठा जल - थल होगा ।

 सुन्दर- सुन्दर सुमन खिलेंगे ।

 मन - उपवन सुरभित होंगे ।।

 

चारों ओर खुशहाली होगी ।

        हर दिन पर्यावरण दिवस

 नहीं आएगी  महामारी

नहीं होगी कोई बीमारी।

 सदा रामराज्य रहेगा,

खुश रहेगी,दुनिया सारी ।। 🌸


@ डॉ मीरा त्रिपाठी पांडेय 

         मुम्बई ,भारत ।

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image