गरमी

 सुन्दरी सवैया

माया शर्मा

गरमी सचहूँ अब अ$ति करे,सब पीपर छाँह अगोरत बाड़ें।

अपने अइलें सँहवा लइलें बकरी बछिया सब डोरत बाड़ें।

जब लूह चले तब ताप बढ़े,गमछा जल में सब बोरत बाड़ें।

सुहुतात घरी जब प्यास लगे,तब बेल सँहे गुड़ घोरत बाड़ें।।१।।


गमके बगिया मधुमास घरी,बढ़ते गरमी फरि के लटि जाले।

जब आम फरे लटके भुइयाँ,ठेहुनी क बले सब लोग सम्हालें।

इमली महुआ लिचि जामुन के बड़ घ$वद देखि सभे ललचालें।

रखवार जबे टकसे कतहूँ,लइका झटहा लइके टुटि जालें।।२।।


माया शर्मा

पंचदेवरी,गोपालगंज(बिहार)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image