सुहाना मंजर

 



 रंग बिरंगी चिड़िया सारी

 देखो लगती कितनी प्यारी

 पंख फुलाए चू- चू करती 

 उड़ती फिरती क्यारी- क्यारी।


 लगती देखो कितनी सच्ची

 कोई बड़ी है कोई बच्ची

 सोच रही है खाएगी क्या 

फल अमिया की पक्की कच्ची ।


 सुंदर-सुंदर रंगों वाली

 फैली इनकी छटा निराली

 रूप अनोखा देखे इनका

 बगिया भी हो गई मतवाली ।


 कौन रहेगा इसके अंदर

 नीड है इनका कितना सुंदर

 आपस में मिलकर ये रहते

 लगता सपन सुहाना मंजर ।


खतरे की कोई बात नहीं 

बड़े - बूढ़ों ने खूब कही 

पहरा देंगे बारी-बारी 

सबने बोला यही सही ।


अनामिका सिंह

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image