कवि और भावनाएं

नीलम राकेश 

 इतवार का दिन था । कवि महोदय सुबह से अपनी मेज कुर्सी पर जमे थे । कई कप चाय पी चुके थे और उठने का नाम नहीं ले रहे थे । कविता को सुबह से पूरा करना चाह रहे थे किन्तु कविता में सही भाव आ ही नहीं रहे थे । बहुत बार काट-छॉंट कर चुके थे ।

 पत्नी कई बार खाने के लिये बुला कर थक चुकी थी । उसे रसोई समेट कर महरी के लिए बरतन खाली करना था । तभी चार साल का बेटा पिता के पास आकर गोद में चढ़ने की जिद करने लगा । इसी प्रयास में बच्चे के हाथ से लग कर ग्लास का पानी मेज पर फैल गया । कवि महोदय की सारी खीज झापड़ बन कर नन्हें बालक पर बरस पड़ी ।

 पत्नी ने दौड़ कर पुत्र को गोद में उठा लिया और खीज कर बोली] ^^घर में उपस्थित हाड़-मांस के जीवित पात्रों की भावना को हर पल कुचलते रहते हो । यह कहॉं का न्याय है !!**

 भावना का यह ज्वार कवि महोदय को स्तब्ध कर गया था ।


नीलम राकेश 

610/60, केशव नगर कालोनी

सीतापुर रोड, लखनऊ उत्तर-प्रदेश-226020,              

दूरभाष नम्बर : 8400477299

neelamrakeshchandra@gmail.com

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image