धरा शौर्य

 

शरद कुमार पाठक

माँग रही अब धरा शौर्य

रण भूमि महाभारत ही


मांँग रही है अस्त्र शस्त्र

अब ग्रांण्डीव धनुषधारी

ओज माँगती भुज दण्डों में

गति रक्त वीर प्रवाह मयी


माँग रही कर में कृपाण

उर अन्तर ज्वाला सी


माँग रही है सिंह गर्जना

अति वीर महा बल शाली


माँग रही है पहले जैसे

अब शिवा शोर्य

अति महावीर मराठा सी


मांँग रही है अब धरा शौर्य

रण भूमि महाभारत सी 

शरद कुमार पाठक

हरदोई उत्तर प्रदेश



  

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image