अमृत को त्याग बढ़ लिये पीने जहर को

डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज"

कोई साथ ना अपने ,

निकले अपनी डगर को ।

छोड़ प्यारे गाँव ,

चल दिये शहर को ।

जीवन के लिए ऐसा ,

करते हैं सब मगर ,

मन में है विश्वास ,

लौट आयेंगे घर को ।।

माता-पिता का प्यार ले,

बढ़ते हैं राह पर ।

उनको छोड़ चल दिए ,

उनके हाल पर ।।

अमृत को त्याग बढ़ लिए ,

पीने जहर को ।

छोड़ प्यारे गांव ,

चल दिए शहर को ।।

जीवन में साथ देने का ,

वायदा किया जिसने ।

छोड़ा साथ उसका ,

जोड़ा हमें जिसने ।।

कैसे ?झेल पायेंगे ,

ख्वाबों के कहर को ।

छोड़ प्यारे गाँव ,

चल दिए शहर को ।।

होता सवेरा रोज ,

सुनते थे किलकारी ।

शहनाई सी आवाज ,

लगती बड़ी प्यारी ।।

सोते हुए छोड़ आये ,

टुकड़े -जिगर को ।

छोड़ प्यारे गाँव ,

चल दिए शहर को ।।

खेले थे दोस्तों में ,

भैया भी साथ में ।

अब कौन? कहाँ ?रहे ,

नहीं अपने हाथ में ।।

छोड़ बहिन चल दिए ,

गंगा सी लहर को ।

छोड़ प्यारे गाँव ,

चल दिए शहर को ।।

डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज"

अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image