"जय गणपति"



जय गणपति गजवदन विनायक

जय-जय देवों के कुल नायक


जय गौरी के पुत्र गणेश

हरौ ना हम पापी का कलेश


दीन-दुखी हम अति दुखियारी

दरसन बस आयी गलियारी


एक बार दरसन मुझे दीजै

इतना कृपा प्रभु तुम कीजै


मन, क्रम वाणी से सुमिरन कर

प्रभु चरणों को शीश नवाकर


धन्य समझती जीवन अपना

बाकी सब जीवन में सपना


जय गणपति गजवदन विनायक

जय-जय देवों के कुल नायक।। 

            

        विंध्यवासिनी तिवारी

Shared using https://www.writediary.com/getapp

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image