निवेदिता राय के शेर

एक हिचकी ले आई 

दर्जनों यादें उनकी 

एक सिसकी में दबा लीं 

हमने सारी बातें अपनी 


निवेदिता रॉय 

🌺🌺🌺🌺🌺🌺


अपने जब दूर तले जाते हैं 

अक्सर ख़्यालों में मिलने आते हैं 

काश वो लम्हा ठहर जाए 

जब उनके मिलने की आहट आए

🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺


माना कि तुम बा वफ़ा

हम बे ख़ता हैं 

तो ये फ़ासला क्यों है ?

तसव्वुर में ही सही मुहब्बत तो अब भी है 

🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺


निवेदिता रॉय 

(बहरीन)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image