साहित्यिक परिचय : कल्पना भदौरिया "स्वप्निल "



नाम- कल्पना भदौरिया "स्वप्निल "

     

जन्मतिथि-27-10-83

शिक्षा-परास्नातक,

पिता -श्री प्रकाश वीर सिंह 

माता -सरवन 

 संप्रति-शिक्षक

विशेष 


साहित्यिक गतिविधियां-विभिन्न विधाओं की रचनाएं कहानियां,लघुकथाएं, कविताएं ,लेख, आदि 

 स्थानीय से लेकर राष्ट्रीय/अंतरराष्ट्रीय स्तर की पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित।

कई साझा संकलनों में रचनाएँ प्रकाशित

अनेक पत्र पत्रिकाओं, संकलनों व पत्र पत्रिकाओं, न्यूज पोर्टल्स, ब्लॉगस, बेवसाइटस में रचनाओं का प्रकाशन जारी।

 

-अनेक पटलों पर काव्य पाठ अनवरत जारी

सम्मान-विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं द्वारा 300 से अधिक सम्मान पत्र ।

-विभिन्न पटलों की काव्य गोष्ठियों में अध्यक्ष/मुख्य अतिथि/विशिष्ट अतिथि बनने का अवसर भी मिला।

संचालक का दायित्व विभिन्न मंचों में संभाला तथा अभी भी जारी है 

मो. &वाट्सएप-7007821513


Email-klpanabhadauriya1983@gmail.com

----------------------------------------

निवास-लखनऊ ,उत्तरप्रदेश

226013

-------------------------------


 -सिसकी


अधर अंतस दबा अल्फाज़ है सिसकी

सुनने का अनसुना प्रलाप है सिसकी


ह्रदय चुभे शूल की प्रहार है सिसकी

हो चुकी भूल की चीत्कार है सिसकी


टीस की सघन बरसात है सिसकी

उम्मीद की करुण पुकार है सिसकी


पथनिहारते अक्षोंकी तलाश है सिसकी

उमड़ते विचारों की आवाज है सिसकी


अकेलेपन का अहसास है सिसकी

व्याकुल विचारों का अम्बार है सिसकी


सूखे नैनों का अश्रु धार है सिसकी

मरुस्थल का मरू नाम है सिसकी


टूटे स्वप्न का अदृश्य संसार है सिसकी

टूटीआशाओ का विस्तार है सिसकी


मन विकलता का प्रतिकार है सिसकी

करुण कृन्दन का भाव है सिसकी


सुन ले ईश्वर पुकार है सबकी

न दो किसी को उपहार में सिसकी


¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥


कल्पना भदौरिया "स्वप्निल "

उत्तरप्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image