खोता बचपन



गीता पाण्डेय अपराजिता

मॉ के ऑचल में नित खेले ,

हॅस-हॅस कर फिर रोता बचपन ।1।


क्या लेना दुनिया से उसको ,

अलमस्त सदा होता बचपन।2।


मॉ की गोद उसे मिल जाये,

हॅसता और हॅसाता बचपन ।3।


बाबा बनते टिक-टिक घोड़े,

सरपट दौड़ लगाता बचपन ।4।


ऑख खुली तो धमाचौकड़ी,

थका अगर तो सोता बचपन।5।


लोरी,किस्से,गीत,कहानी ,

नहीं सुने तो रोता बचपन ।6।


दादी,नानी की गोदी में ,

खूब लगाये गोता बचपन ।7।


तुतलाकर फिर उठ-उठ गिरना,

दिव्य,अलौकिक होता बचपन ।8।


बदल रहा परिवेश सहज ही ,

अपना गौरव खोता बचपन ।9।


याद किसे है कोई बताये ,

कैसे हॅसता रोता बचपन।10।


गीता पाण्डेय अपराजिता

रायबरेली उत्तरप्रदेश 9415718838

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
गीता सार
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image