ग़ज़ल

  

किरण झा

जिंदगी कितना तुम सताओगी

इक दिन मुझसे हार जाओगी


सांस मेरी तेरी अमानत है

कैसे मुझको तुम बिखराओगी


डाल कर हाथ मेरे हाथों में

ले चलो तुम जहां भी जाओगी


चलते चलते यूं ही राहों में

देखकर मुझको मुस्कराओगी


नींद आये तो कभी ख्वाबों में

लोरी मुझको तुम सुनाओगी


 ✍🏻 स्वरचित

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image