ग़ज़ल

 'ऐनुल' बरौलवी

दिल के अंदर तू ही तू है

दिल से दिल की गुफ़्तगू है


दिल में उल्फ़त है ये कैसी  

और किसकी जूस्तज़ू है


कौन ख्वाबों में है आता

तू तो मेरे रू - ब - रू है


दिल में जो तस्वीर है इक

तुझसे मिलती हू-ब-हू है


लाज से चेहरा तो देखो

आज कैसा सुर्खरू है


रातरानी खिल गई तो

फिर फ़ज़ा में बू ही बू है


बेवफ़ाई से तुम्हारी

हर तरफ़ अब थू ही थू है


थाम ले अब हाथ 'ऐनुल'

तू ही मेरी आबरू है


 'ऐनुल' बरौलवी

गोपालगंज (बिहार)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image