ग़ज़ल



सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

जरूरत  से  ज्यादा  की  कभी  चाह  मत कर।

अंधी   दौड़   में   जीवन   को  तबाह मतकर।


कितनें   लोग   मुफलिसी   में   दिन काटते हैं, 

किसी  गरीब  का मजाक उड़ा वाह मत कर। 


मजबूरी    का    फायदा   उठाना   जुल्म   है, 

दूसरों   के   शोषण   करके  गुनाह  मत कर।


यहाँ   कौन  किन  मुसीबतों   में   हैं  रह  रहे , 

बैठे--बिठाए   बेमतलब   सलाह   मत   कर। 


अपने   गुस्से   को   रख   ले  काबू  में 'सुलभ', 

कर जलील किसी को तिरछी निगाह मत कर। 


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

इन्दौर मध्यप्रदेश


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image