"आओ मेरे पास " (लघुकथा)

  

नीरज कुमार सिंह

एक चट्टान के उपर बैठा नर तोता बोला "अरे नीचे गुमसुम क्यों बैठी हो आओ उपर मेरे पास ?

ये सुनकर मादा तोता बोली "क्या जी.... आपभी ना ...हर वक्त सिर्फ... मस्ती,... कितनी बड़ी संकट आई है? देख रहे हैं न ,...जो मानव हमे पिजड़े में कैद करते थे, आज वो खुद अपने घरों में कैद हैं, यही सोचकर मन दुखी है आज"

इसपर नर तोता बोला क्या करोगी ये मानव कम उपद्रवी नही हैं सब अपनी गलतीयों की  सजा भोग रहे कोरोना वायरस के रूप में"।

नीरज कुमार सिंह

देवरिया यू पी

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
हास्य कविता
Image