बचपन की बातें

 


मनु प्रताप सिंह


बचपन की बातें माँ सुनाती,स्नेह मेरा जग उठा।

बचपन की यादें,कितने झगड़े,गुस्से में तो रूठा।।


मिट्टी खायी, माँ की मार खायी।

दौड़ आयी,जिद के रोटी खिलायी।।

मेरे मधुर क्षण,प्यार के मारे,मेरे आँसू छूट पड़ा।

बचपन की बातें माँ सुनाती,स्नेह मेरा जग उठा।1।


न जिम्मेदारी, ना दुनियादारी।

बस सिर्फ़ थी,मौज हमारी।।

खुशियों ढेरों पर,चिढ़ कितनी,मेरा गुस्सा तो फूटा।

बचपन की बातें माँ सुनाती,स्नेह मेरा जग उठा।2।


गूँजी किलकारी,सुंदर सपने में।

रहते सदा थे, अपने पन में।।

चुराएं मक्खन,बने श्यामा,बताओ मै कितना झूठा।

बचपन की बातें माँ सुनाती,स्नेह मेरा जग उठा।3।


हठ को लिए , ठुनकते रहते।

समझाती माँ पर,रोते रहते।।

ज़िद करते थे, शोर करते थे,क्यों ना लाये मेरा मीठा।

बचपन की बातें माँ सुनाती,स्नेह मेरा जग उठा।4।


माँ की ममता,पिता का साया।

सावन के झूले,मन लहराया।।

आती जवानी में,जाते वक्त में,बचपन का सपना टूटा।

बचपन की बातें माँ सुनाती,स्नेह मेरा जग उठा।5।


मनु प्रताप सिंह


 चींचडौली

 ( काव्यमित्र ), खेतड़ी

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image