पीठ पीछे नफरत मुंह पर प्यार


पीठ पीछे नफरत मुंह पर प्यार,

 आजकल की दुनिया का यही कारोबार।

चोरी बेइमानी मचा है लूट पाट

ईमानदारी वाले मर रहे, भ्रष्टाचारी का राज पाट।

इंसान की कदर नहीं, पैसे की कदर करते हैं।

बैंक में जमा है पैसा, अकेले ही मरते हैं।

अपने अपने की सोच में डूबा है इंसान,

इसीलिए इस दुनियां से रुष्ट हुआ भगवान।

अपने लिए तो हरदम मांगे,

आज सबके लिए दुआ मांगे,

अब मोह भंग हुआ भगवन्

तेरे चरण में वंदन करते हैं।


आशा सिंह मोतिहारी

पूर्वी चंपारण बिहार


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image