जीवन की आशा में

 

पद्मा मिश्रा

जीवन प्रतीक्षा है आने वाले कल की,

रात के अंधेरों को चीर कभी निकलेगा,

डूबती उम्मीदों में सूरज प्रभात का,

सांसों की डोर पकड़ ,जीवन की आशा में,

रच देंगी किरणें फिर परचम विहान का.

बीतेंगे लम्बी प्रतीक्षा के पल जैसे,

गंध गंध डूबा मन आशा विश्वास का.

अश्रु भरी आँखों में मुस्काएगा सावन,

संवरेगा बगिया में फूलों का फिर बचपन,

पोर पोर निखरेगा जीवन मधुमास का,

पावस के मेघों सी, भींगी हर भावना,

बूंद बूंद संवरेगी संचित हर कामना,

यादों में महकेगा मधुवन परिहास का.

रात के अंधेरों को चीर कभी निकलेगा ,

डूबती उम्मीदों में सूरज प्रभात का.

--

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image