आशा की बदरी

शरद कुमार पाठक

तुम ना मेघा बरसे

आशाओं की सघन बदरिया

उमड़ उमड़ रह जाये

जैसे- स्वाँति बूँद बिन

चातक व्याकुल

दादुर टेर लगाये

जल बिनु मीन नदी बिन बारी

आतप धरा अकुलाये

एक बसन्त के आने से

पीहू आस लगाए

शाखों पर कोयलिया बैठी

सुंदर मधुराग सुनाये

जैसे -कानन विचरति

कोई तरुणी

 गीत विरह के गाये

आशाओं की सघन बदरिया

उमड़ उमड़ रहजाये

तुम ना मेघा बरसे


         (शरद कुमार पाठक)

डिस्टिक----(हरदोई)

ई पोर्टल के लिए

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image