माँ


स्मिता पांडेय

तपिश बहुत कम हो जाती है,जब पड़ती है फुहार,

आज बहुत है याद वह आता, पहला पहला प्यार |


कितनी नादानी थी मन में,सब कुछ था अनजाना,

पर तेरी ममता कहती थी, बिल्कुल न घबराना ,

आज सभी देते हैं मुझको ,भिन्न भिन्न उपहार,

पर मुझको तो याद है आता,पहला पहला प्यार |


चिर परिचित है पंथ भले ही ,पर मैं हूँ एकाकी,

तेरे जाते खिसक गए सब, याद रह गई बाकी,

कुटिल भावना छिपी है सबमें,मन में है प्रतिकार,

तब मुझको फिर याद है आता,पहला पहला प्यार |


आज धूप में तप कर मिलती, दो जून की रोटी,

पहले पूरी हो जाती थी, ख्वाहिश छोटी छोटी,

हँस कर कैसे कर लेती थीं,हर मुश्किल स्वीकार,

माँ मुझको लौटा दो मेरा ,पहला पहला प्यार |



Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image