जब वो खेला करता था

विमल सागर

सुबह सवेरा अंशू बेला

जब वो किलक कर हंसता था

जब मेरे आंचल की खुशियाँ

जरा उचाछ ला देता था,


तनिक रहीं मैं मन रमणीय दृश्य ओझल

स्मरित करने आया वो

जब कलियों पर किरणों का पहरा

जब खेल खेलने आया था,


माँ बाबा का नहीं लाड़ला

शौतन माँ बन रहती थी

मेरे आंचल खुशियाँ पाकर

चेहरे से फुलझड़ी खिलतीं थीं।।


विमल सागर

बुलन्दशहर

उत्तर प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image