जब वो खेला करता था

विमल सागर

सुबह सवेरा अंशू बेला

जब वो किलक कर हंसता था

जब मेरे आंचल की खुशियाँ

जरा उचाछ ला देता था,


तनिक रहीं मैं मन रमणीय दृश्य ओझल

स्मरित करने आया वो

जब कलियों पर किरणों का पहरा

जब खेल खेलने आया था,


माँ बाबा का नहीं लाड़ला

शौतन माँ बन रहती थी

मेरे आंचल खुशियाँ पाकर

चेहरे से फुलझड़ी खिलतीं थीं।।


विमल सागर

बुलन्दशहर

उत्तर प्रदेश

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image