डा0 प्रमोद शर्मा प्रेम के मुक्तक

  


1.

नहीं हालात अच्छे हैं..ये बतलाना जरूरी है

अगर चाहो रहे साँसे संभल जाना जरूरी है

बैठा ताक मे सबकी करोना एक शिकारी है

समय भारी है जीवन पे समझाना ज़रूरी है 


2.

इतना दुख क्यों दे .रहा दुनिया को करतार

दर्द और गम मे डूब गया ..तेरा सब संसार

सब ही विनती कर रहे सुन ले चीख पुकार

तंग आये श्मशान सब है लाखों का अंबार


3.

आ बचा ले तू कहाँ है़..विनती बारम्बार है

चीख सिसकी दर्दो गम लाशो का अंबार है

आँसुओं की बाढ में जग न बह जाये कही

फिर कौन मानेगा तुझे तू जगत आधार है


4.

साँस की कालाबजारी ये आदमी का काम है

स्वार्थ ने क्या कम को लीला मौत तो बदनाम है

बेटा मरे कोई बाप जाये माँ मरे या कि बहन

बस स्वार्थ की प्रति पूर्ति के आज मंजर आम है


5.

 जिन्दगी और साँस में दीवार दिखती है

क्या बेबसी है हर दवा बेकार दिखती है

मौत बनकर घूमता है करोना हर तरफ

हर एक गर्दन पे धरी तलवार दिखती है

डा0 प्रमोद शर्मा प्रेम 

नजीबाबाद

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image