गांव गांव जाकर गिना रहे कृषि बिल के फ़ायदे राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामनिवास यादव

 



 संवाददाताअनुराग सिंह 

लखनऊ: राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन ने केन्द्र सरकार द्वारा लागू तीनों कृषि बिलों के समर्थन में लखनऊ की विधानसभा मलिहाबाद के ग्रामखंडसरा,गोपालपुर, गोड़वा बरौकी सहित दर्जनों गांवों में चौपाल लगाकर कृषि कानूनों बिलों के विषय में किसानों को समझा कर जागरूक किया।बताते चलें कि  राष्ट्रीय  अन्नदाता यूनियन के  राष्ट्रीय अध्यक्ष  रामनिवास यादव ने केंद्र सरकार द्वारा लागू तीनों क्रश बिलों के फायदे की जानकारी गांव गांव जाकर किसान चौपाल के माध्यम से बता रहे हैं चौपाल को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राम निवास यादव ने कहा कि अराजकतावादी तथाकथित किसान संगठन व उनके नेता किसानों के नाम पर कृषि बिलों के खिलाफ लगातार दुष्प्रचार कर देश में अराजकता फैलाने का काम कर रहे है, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के नाम पर दलालों ने जबरन कब्जा कर रखा है जिससे देश का अन्नदाता बदनाम हो रहा है किसानों के नाम पर राजनीति चमकाने वालों के खिलाफ देश का अन्नदाता एवं असली किसान उठ खड़ा हुआ है। कृषि सुधार कानून बिलों से मिलने वाले फायदों से किसानों को अवगत कराया। राष्ट्रीय अध्यक्ष कहा कि मोदी सरकार ने इन तीनों कृषि सुधार कानून (बिलों) को खेत, खिलहान, किसान को केन्द्र बिन्दु मान कर लागू किया है। कुछ किसान संगठन के दलालों द्वारा कृषि बिल का विरोध किया जा रहा है जिससे किसानो को भ्रमित किया जा रहा है। दुर्भाग्य से देश के कुछ विपक्षी राजनेता और दल भी इस तथाकथित किसान आंदोलन की आड़ में देश के किसानों के खिलाफ षडयंत्र रचने का काम कर रहे है। जो भारी चिंता का विषय है। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन इन नकली किसान संगठनों एवं इनके नेताओं के खिलाफ लगातार आंदोलन जारी रखेगी एवं इनके द्वारा किये जा रहे किसानों के खिलाफ षडयंत्र को बेनकाब करेगी। कार्यक्रम में मुख्य रूप से राजकुमार लोधी, मूलचंद यादव,भैया लाल यादव,बिजय शर्मा,रामकुमार शुक्ला सैकड़ो लोग मौजूद रहें।

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image