अमर रहे गणतंत्र हमारा




अखिल विश्व में सबसे न्यारा।

*अमर रहे गणतंत्र हमारा*।।


विविध धर्म और भाषाऐं है।

जन गण मन की आशाऐं है।

विविध नही मिल एक है सारा।

*अमर रहे गणतंत्र हमारा*।।


जनता के हित जनता द्वारा,

जनता का ही शासन सारा।

समता,न्याय ,प्रगति हित  लेकर,

सुरभित होता पंथ हमारा।।

*अमर रहे गणतंत्र हमारा*।।


अमर शहीदों के बलिदानों से,

अद्भूत ये सौगात मिली है।

मातृभूमि  स्वरक्त सींचकर

आजादी की कली खिली है।

है संकल्प प्राण देकर भी,

भारत २हे स्वतंत्र हमारा।

*अमर रहे गणतंत्र हमारा*।।


जनमानस का जीवन हमको 

मिलकर सुखमय करना है।

भारत हो खुशहाल सर्वदा,

सपना यह सच करना है।

प्रतिपल रहे प्रजा का चिंतन

यही मंत्र होठों पर न्यारा।

*अमर रहे गणतंत्र हमारा*।।

दिशा दिशा में गुंजित गान।

हम सब मिलकर रखें मान।

हिन्द देश बंधुत्व बढ़ाये ,

विश्व गुरु हो देश हमारा।

*अमर रहे गणतंत्र हमारा*।।

आशा त्रिपाठी

       26-01-2021

       हरिद्वार

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
मैं मजदूर हूँ
Image