चौथे स्तंभ को संविधान द्वारा चाहे जितने अधिकार व समय समय पर सरकारों के साथ ही न्यायालयों द्वारा मजबूती व सुरक्षा के दावे हो ,लेकिन उनके अधिकारों का हनन होता रहता है


हरौनी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की बदहाली की ख़बर पर चौकी इंचार्ज ने घर जाकर धमकाया


भविष्य में ऐसा न करने की दी नसीहत 


लखनऊ। सरोजनी नगर लखनऊ  देश के चौथे स्तंभ को संविधान द्वारा चाहे जितने अधिकार प्राप्त हों। समय-समय पर सरकारों व न्यायालयों के द्वारा मीडिया को चाहे जितना मजबूत बनाने के साथ उनकी सुरक्षा को लेकर कितने भी दावे किए जाते रहे हो । बावजूद इसके भी  कभी-कभी मीडिया कर्मियों के शोषण सहित उनके अधिकारों का हनन भी किया जाता रहता है। यह किसी से छिपा नहीं है। कुछ  ऐसा ही मामला बीते दिनों क्षेत्र में  प्रकाश में  आया । यहां पर शुक्रवार को हरौनी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की बदहाली की खबर छपते ही चौकी प्रभारी  ह रौनी राजेश मिश्रा आग बबूला हो गए और वह आनन-फानन में पुलिस बल के साथ मीडिया कर्मी के घर पहुंच कर उन्हें खबर को लेकर डराने धमकाने सहित भविष्य में ऐसा न करने की नसीहत तक दे डाली। दरोगा जी वर्दी का रौब गांठने के चक्कर में यह भी भूल गए कि यह लोग एक सम्मानित मीडिया कर्मी हैं। वह भविष्य में इस प्रकार की खबरों के लिए उनसे पूछने को भी कहने लगे। पत्रकारों को दिए गए मौलिक अधिकार में यह स्पष्ट है कि वह किसी भी विभाग अथवा संस्थान की खबर को प्रकाशित अथवा प्रसारित कर सकता है । यदि खबर में कहीं कोई आशंका हुई तब उसको जांचने का अधिकार सिर्फ माननीय न्यायालय को ही है , लेकिन यहां तो दरोगा जी शायद अपनी सीमा और मर्यादा भी भूलते नजर आए या शायद वह अपने आप को न्यायालय से भी ऊंचा समझते हैं।  तभी तो संबंधित विभाग की खबर न होने के बावजूद अपना फैसला सुनाने में जरा भी नहीं हिचके। जिससे मीडिया कर्मियों में दरोगा के इस प्रकार के रवैये को लेकर आक्रोश  व दुखी भी है। यदि उन्हें सामाजिक जन समस्याओं को उठाने के लिए इसी प्रकार से डराया धमकाया जाएगा तो फिर भविष्य में जन समस्याओं को कौन उठाएगा।

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
भिण्ड में रेत माफियाओं के सहारे चुनाव जीतने की उम्मीद ?
Image
सफलता क्या है ?
Image