तारीफ़


आहिस्ता फिसलती है कलम की स्याही


सजते हैं मखमली बोल;


हृदय से उतार कर रखते हैं पन्ने पर, 


तब जाकर मिलती है तारीफ़!! 


 


मन की दुनिया के एहसास


दर्द भरे लव्ज़ जो खास;


चुन-चुन कर बुनते हैं पन्ने पर, 


तब जाकर मिलती है तारीफ़!! 


 


शब्दों का तीर जब लग जाए


आप कहने को मजबूर हो जाऐं;


मेहनत रंग लाती है तब, 


जब मिलती है तारीफ़!! 


 


यूँ तो लिखना छोड़ दिया था, 


कविता से मुंह मोड़ लिया था;


मगर खुद-ब-खुद चल जाती है कलम, 


जब मिलती है तारीफ़...... 


 


माही सिंह


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image