संस्मरण

मंगलवार की सुबह चाय पीते वक्त फ़ोन की घंटी बजी, देखा तो मेरे अभिभावक स्वरूप मित्र अंकुर जी का फ़ोन था, प्रसन्नतावस मैंने अपने हसमुख अंदाज़ में sहेलो के साथ नमस्कार करते हुए उन्हें दिन अच्छा गुजरने के लिए शुभकामनाएँ दी, अचानक मेरी बात को काटते हुए वे बोल पड़े- "विशाल आपको जानकारी है कि जमुना प्रसाद जी नही रहे?"; इतना सुनते ही मैं उनकी कही बातो पर विस्वास न कर सका तो पुनः पूछ उठा- "क्या हुआ?क्या कह रहे आप?" आखिर होता भी क्यों न, बात जमुना प्रसाद जी की जो थी, जी हाँ वही जमुना प्रसाद जी जिन्होंने अपने जीवन के 94 वर्षों में भिन्न-भिन्न प्रकार से अपने किरदारों को इस तरह से निभाया की जनता रूपी दर्शक अभिभूत होगये, कभी अज़ादहिन्द फ़ौज के सिपाही के रूप में तो कभी आपातकाल के दौरान चंद्रशेखर जी और जयप्रकाश जी के साथ लोकतंत्र के रक्षक के रूप में, आप भले ही एक राजनीतिक पार्टी से 4 बार विधायक रहे, 2 बार मंत्री की कुर्सी को भी शोभायमान किया आपने किन्तु आपके किरदारों में कभी रत्ती भर परिवर्तन नही दिखा, आप सदैव ही वही जमुना प्रसाद रहे जिनमे शुभाष बाबू का व्यक्तित्व झलकता था। जीवन में अनेकों ऐसे पल आते हैं जब हमें ना चाहते हुए भी खुद से समझौता करना पड़ता है, खासकर राजनीतिक जीवन मे ऐसा देखा जाता है, किन्तु आपकी प्रेरणामयी विचारधारा जो सदैव आपको सदमार्ग प्रेषित करती रही उसको मेरा सलाम है।


    ख़ैर ख़बर तो मिल चुकी थी, पर मेरे मन में एक तरफ इतना सन्नाटा था कि टेबल पर बड़े चाय के कप पर भिनकती मक्खी की आवाज मेरे अंतर मन को कचोट रही थी, वहीं दूसरी ओर मेरा हृदय समुंदर की लहरों की भांति इतने हिचकोले खा रहा था कि मुझे माँ के बुलाने की आवाज भी न सुनाई पड़ी; दिल मे एकहि प्रश्न बार बार उठ रहा था कि इस महापुरुष के अंतिम दर्शन कैसे करूँ। पर शायद नियति को कुछ और ही मंजूर था, इस महामारी की वजह से जाना संभव तो नही हो सका किन्तु मेरा हृदय जनता है कि मेरे तन से दूर मेरा अंतर्मन आपके श्री चरणों मे आज भी विराजमान है। आपका तहे दिल से धन्यवाद उन सभी परोपकारों के लिए जो अपने सदैव हम देशवाशियों पर किये, आप अवश्य ही प्रकृति के नियमानुसार हमारा साथ छोड़ गए किन्तु आपके आदर्श, मूल्य, राजनीतिक दर्शन, सब सदैव इतिहास में दर्ज होकर इतिहास का मान बढ़ते रहेंगे और हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए एक सद्द्मार्ग प्रेषित करती रहेंगी।


   श्रद्धांजलि


     विशाल पांडेय


    जिलाध्यक्ष जौनपुर


    समाजवादी जनता पार्टी किसान मोर्चा(चन्द्रशेखर)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image