संकट

मनहरण घनाक्षरी छंद



कितना ही विकट हो 


ये संकट अकट हो


मन में जो बल हो


दृढ़ होना चाहिए।


 


अवसाद घेरे है तो


 रच लो हाँ छंद नये


आत्ममंथन अटल    


लक्ष्य होना चाहिए।


 


छोड़ कर स्वार्थ सभी


माँग कर क्षमा अभी


दोहन प्रकृति माँ का


छोड़ देना चाहिए।


 


नमन उन्हें करो जो


बने रक्षक हमारे 


कर्म ही अब धर्म है


मान लेना चाहिए।


 


तरुणा पुण्डीर 'तरुनिल'


साकेत ,नई दिल्ली।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image