रोजगार - बेरोजगारी.....


रोजगार की चाह में लोग दर-दर भटक रहे हैं,


बेरोजगारी इतनी बढ़ गई कि कुछ भी ना समझ रहे हैं।


सरकार ने भी हार मान कर सरकारी पेपरों की अनुमति दे डाली,


कोरोना का ध्यान न रखकर प्रशासन ने भी अनदेखी कर डाली।।


लोगों ने रोजगार को लेकर रोड़ों पर नारेबाजी की,


कोरोना जैसी महामारी से सबने आफत मोल ली।


कोई तो लोगों को समझाएं की जान है तो रोजगार है,


वरना लोगों के लिए बेरोजगारी में क्या नुकसान है।।


आम जनता को सेवाएं देने काम-काज पर जो जाते हैं,


उनसे पूछो हाल देश का जान की बाजी लगाकर जो कमाते हैं।।


अरे! जान ही नहीं रही अगर तो, उस रोजगार का क्या करेंगे?


चिल्ला चिल्लाकर नारे बाजी से किसका क्या कर लेंगे।


कुछ दिमाग लगाकर इनकम का सोर्स निकालो,


क्यों दोष दूसरों को देते खुद जो करना है कर डालो।।


याद रहे सबको यह की जान है तो जहान है,


क्योंकि जान के बिना सब बीरान है।।।....(सुरभि)


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image