मन


मन करता है मनमानी, हरकत इसकी जानी पहचानी ।


गम्भीर समस्या को हल करने में करता ये आनाकानी।।


 


मन खुद में इक लेखक है रोज लिखे ये नई कहानी ।


इसने केवल चलना सीखा रहे हमेशा इसकी जवानी।।


 


मन खुश तो प्राणी खुश है नहीं तो भरे नैन में पानी।


मन से जो कोई पंगा ले तो याद दिलाता उसे ये नानी।।


 


इसकी नटखट करतूतों का फल भुगते है हर प्रानी।


मन को रखो वश में तुम सब समझाते हैं ये ज्ञानी।।


 


                                           - अमर पाण्डेय


                                     बस्ती, उत्तर प्रदेश (भारत)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image