लरछुत


"छोटहन बा


बिख---


लमहरो से बेसी बा


लमहर त कुछु नइखन


कलयुग के बीज बा


लमहर--


नेवर हो जालें


तनी,बगला के ,


राह काट के चल जालन


पर इ !!!!


तनल रहेले


लड़े-मारे के


तइयार रहेले


आपन-बीरान


तनिको न बुझेलें


मुड़ी झटकार के


जबाब तइयारी रखेले


लोगवा---


राह बचवले जालें


अझुरईला से


बचवले जाले


जायद----


राह बचा ल


कन्नी कटा ल


नया जमाना के


इ---


लरछुत ह !!!!!!


★★★★★★


डॉ मधुबाला सिन्हा


वाराणसी


09 सितम्बर20 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image