होश उडाने से पहले 

 


कैसे भूलना है तुझको


ये मुझको, समझा जाते 


कम से कम जाने से पहले


कुछ तो बता जाते 


हाथ रख लेते ज़ख्म पे 


मरहम लगा जाते 


यूँ दूर जाने से पहले 


पास तो आ जाते 


कैसे सजती है महफ़िल 


ये हुनर तो सिखा जाते 


यूँ चिराग़ बुझाने से पहले 


रात को बुला जाते 


हौसला हमारा कुछ 


तो बढ़ा जाते 


यूँ होश उडाने से पहले 


होश तो दिला जाते


-काव्या वर्षा !


दरकाटी -176023 तहसील -ज्वाली जिला -कांगड़ा 


हिमाचल प्रदेश !


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image