हिन्दी तो है हिंद की रानी

हिन्दी तो है हिंद की रानी।


मिश्री सी घोले कहे कहानी।


कविताओं में कर्ण फूल सी,


सरस व्याकरण ज्ञान की नानी।


 


भारत की चन्दन और रोली।


प्रेम दुलार भावों की बोली।


दोहा छंद श्रृंगार अलंकृत,


बांधे जब शब्दों की मोली।


 


 हम सब हिंदी वाणी ना भूलें।


 बोल बोल अंग्रेजी ना ऊलें।


भौतिकता की होड़ में आकर,


हिन्दी का विकास ना भूलें।


 


हिन्दी लिखके किया उजाला।


महादेवी,सूर पंत, निराला।


आओ इसकी गरिमा बढ़ाएं,


हिंदी खूशबू पहन दुशाला।


 


 राखी कुलश्रेष्ठ


कानपुर उत्तर प्रदेश


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image