हिन्दी


बचपन में मां,


मुझसे हिन्दी बोली,


प्रेम - पुचकार से


मेरी अभिव्यक्ति का द्वार खोली।


      माता को मैंने कहा मां,


      मां ने कहा मुझे बेटा


       उठो! सुबह हो चुकी है,


      अभी तक क्यों है लेटा?


मैंने कहा-मां


कल कक्षा में मैम आई,


हिंदी बोलने पर


मुझे डांट पिलाई।


 


ब्लडी, हेल,नौनसेंस और ईडियट कहा,


गुस्से में अवशेष कोई शब्द न रहा।


मां! देखो बच्चों का हाल,


अंग्रेजी सीखने का कैसा जंजाल?


मां! मेरी समझ में अंग्रेजी न आए,


मुझे तो हिंदी ही भाए।


 


     -विनोद कुमार पाण्डेय-


      ‌शिक्षक - हरिद्वार


       मो० 8630982322


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image