ग़ज़ल

         


चाँदनी गुनगुनाती रही रातभर , ग़म वो अपने सुनाती रही रात भर       


आइने में बनाकर कोई अक्स वो। दिल के किस्से सुनाती रही रात भर                            


 


आँख में भरके सपने सलोने कई ज़िंदगी मुस्कुराती रही रातभर।   


 


वक़्त ने जब अँधेरा किया राह में। अपने दिल को जलाती रही रातभर     


                       


ग़म जब आँखों से मेरे बरसने लगे आँसुओं से नहाती रही रातभर।            


     इंदु मिश्रा 'किरण'


    ग़ज़लगो ,शिक्षिका , कवयित्री


       नई दिल्ली -17


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image