राधा कृष्ण संवाद


तू भोली भाली राधा है,
मैं नटखट कृष्ण कन्हैया हूँ,
हर गोपी संग रास रचाता हूँ,
करना ना तू विश्वास प्रिये।


तू हर गोपी रास रचाता है,
मैं हर गोपी की धड़कन हुँ,
हर दिल में मुझको पाओगे,
है तुझ पर ये विश्वास प्रिये।


मैं मस्त हवा का झोंका हूँ,
दामन छू कर उड़ जायूँगा,
मैं जाती हुई बयार प्रिये,
करना ना मुझसे प्यार प्रिये।


तू मस्त हवा का झोंका है,
मैं रजनीगंधा का पुष्प प्रिये,
खुशबू बन के बस जाऊँगी,
मैं आऊँगी तेरे साथ प्रिये ।


तू मेरी बांसुरी की धुन बन जा,
बन जा तू मेरा प्राण प्रिये,
है कृष्ण जहाँ राधा बसती,
 बरसा दे अपना प्यार प्रिये।


मैं जब गीता का ज्ञान बनूँगा,
करना मुझको सम्पूर्ण प्रिये,
जब तेरे नाम का जयकारा हो,
राधे संग जुड़ जाये श्याम प्रिये।


नीलम द्विवदी
रायपुर (छत्तीसगढ़)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image