पिंजरे मे कैद,,,,,


मत करो मुझे पिंजरे में कैद


मुझे भी आज़ाद रहने दो


तेरे इन प्यारे से पिंजरे मे


मैं जकड़ी जंजीर सी लगती हूँ


सोचती हूँ मन ही मन 


क्या की हूँ गलती मैं


पूरे रात पिंजरे में बैठ मैं रोती हूँ


मत करो मुझे पिंजरे में कैद


मुझे भी आज़ाद रहने दो


 


जिंदगी को अपने मै नही समझ पाई


मिलने को मन करता है ईश्वर से


शिकायत करुँगी 


की मुझको इतना कष्ट क्यू दिए


मैंने क्या क़शुर किए


दाना पानी मुझे देते हैं


खाने की इक्षा मेरी नही होती है


मत करो मुझे पिंजरे मे कैद


मुझे भी आज़ाद रहने दो।।।।।


 


अर्पणा दुबे


अनूपपुर मध्यप्रदेश।।।।।🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image