साहित्यिक पंडानामा-८१९


भूपेन्द्र दीक्षित
आज का युग बड़ी विषमता का युग है। लोग बड़ी आसानी से एक दूसरे पर आक्षेप करते हैं ,तुम ब्राह्मण वादी हो तुम दलित चिंतक हो, तुम समाज विरोधी हो, तुम हिन्दुत्व विरोधी हो ,तुम साहित्य विरोधी हो, तुम फला पार्टी के सपोर्टर हो, तुम ढिमाकी पार्टी के सपोर्टर हो। आज एक पार्टी के नेता पर भद्दी टिप्पणी करते हैं, कल दूसरी पार्टी के नेता पर भद्दी टिप्पणी करते हैं और यह भूल जाते हैं कि कभी गाड़ी नाव  पर होती और कभी नाव गाड़ी पर होती है।समय को बदलते देर नहीं लगती।
 अभिमान कभी भी नहीं करना चाहिए। अभिमान तो इंद्र का नहीं बचा ।हम सब तो बहुत साधारण व्यक्ति हैं। ओम् इंद्राय विद्महे महा इन्द्राय धीमहि तन्नो इन्द्र: प्रचोदयात के द्वारा पूजा प्राप्त करने वाला इंद्र भी समय-समय पर क्षीण हो जाता है। हम तो साधारण मनुष्य हैं, इसलिए बहुत सोच समझ कर अपनी वाणी का उपयोग करना चाहिए और एक दूसरे पर कभी भी उंगली नहीं उठानी चाहिए। महिलाओं और बच्चों का खासकर सम्मान करना चाहिए। यह हमारे देश की संस्कृति है।
ज़िंदगी हर मोड़ पर करती रही हमको इशारे
जिन्हें हमने नहीं देखा।
क्योंकि हम बाँधे हुए थे पट्टियाँ संस्कार की
और हमने बाँधने से पूर्व देखा था-
हमारी पट्टियाँ रंगीन थीं
ज़िंदगी करती रही नीरव इशारे :
हम छली थे शब्द के।
'शब्द ईश्वर है, इसी में वह रहस्य है :
शब्द अपने आप में इति है-
हमें यह मोह अब छलता नहीं था।
शब्द-रत्नों की लड़ी हम गूँथकर माला पिन्हाना चाहते थे
नए रूपाकार को
और हमने यही जाना था
कि रूपाकार ही तो सार है।
एक नीरव नदी बहती जा रही थी
बुलबुले उसमें उमड़ते थे
रह : संकेत के :
हर उमडऩे पर हमें रोमांच होता था।(अज्ञेय)
हर साहित्यकार रचना चाहता है कुछ अनोखा,कुछ नवीन-समय की धार को बांध दे जो,रस की मत्स्य की आंख को बींध दे जो।हर अधर पर किसलय खिला दे,हर आंख से पारिजात झरा दे,हर मंदिर के घंटे बजा दे।
हाथ आया क्या?सीपी,कभी रेत,कभी घोंघे। हम तो मोती खोजने निकले थे बंधु। 
मिलेगा धैर्य धरो।वह मंच की मालाओं में नहीं।वह तालियों की गड़गड़ाहट में नहीं।धरती की सोंधी सासों में, चंद्रमा के तारहारों में,बरखा की रिमझिम बूंदों में कहीं घुला है। खोजना होगा।


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image