साहित्य अनुभव, सूचना मात्र नहीं


लेखन का आरंभ स्वानतः सुखाय होता है। रचनाकार की साहित्यिक अभिव्यक्ति वास्तव में उसका अनुभव यथार्थ होता है। एक लेखक के लिए सचेत, पागलपन की हद तक किताबों से लगाव, होना चाहिए क्योंकि जितना अध्ययन होगा, उतना ही जुनुन पैदा होगा।
साहित्य अनुभव है, सूचना मात्र नहीं और पाठक को इनमें प्रतिभागी बनाने के लिए आमंत्रित किया जाना चाहिए।
केवल क्लिष्ट लिखना, साहित्य नहीं होता और न अनर्थ की तुकबंदी बल्कि जब शब्द तथा अर्थ के मध्य सुंदरता के लिए स्पर्श की होड़ लगी हो तो वहाँ पर साहित्य की सृष्टि होती है।
जिस प्रकार भवन की नींव नीचे से खड़ी हो जाती एवं नीचे की नींव को मजबूत किया जाता और उस नींव पर पूरा भवन खड़ा रहता, उसी प्रकार मानव के विचार साहित्य से मजबूत होते हैं। साहित्य का जातिवाद, भेदभाव जैसी कुरीतियों को समाप्त करने में महत्व पूर्ण योगदान रहा, आगे भी बचा सकते हैं।
साहित्य में पुरातन और नूतन का संघर्ष टकराव की स्थिति पैदा कर देता है लेकिन टकराव के स्थान पर यदि नूतन मूल्यों में हमारी शाश्वत मूल्यों की
परम्परा से साम्य बैठता है तो नूतन मूल्यों को स्वीकार करने में कोई हानि
नहीं है। तात्पर्य है जो समाज का हित करे, वह सद्साहित्य होता है।


रश्मि अग्रवाल‌ वाणी 


अखिल भारतीय हिन्दी संस्थान
बालक राम स्ट्रीट
नजीबाबाद- 246763
(उ0 प्र0)
मो0 न0/व्हाट्सप न0 09837028700
Email- rashmivirender5@gmail.com


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image