राउरो पनरे साल


पांच बरिस त तहार नेता जी अइसहींबा ,
      बाकिर के दस बरिसवा त$ वोइसहीं बा ।
       खड़खड़  खड़खड़  ठकठक  ठकठक ,
         टड़क चले भा टेम्पो रुकत ठहीं ठहिं बा।।


हमरे सोझा कहल सभका के रोजगार मिली ,
    निरोगी काया होखी अइसन उपचार मिली ।
      दर  दर   भटकत   से   झटकल  भटकत ,
        ना अस्पताल में सर संसाधन सही कहीँ बा ।।


बन्द परल मिलन के आँखियाँ राह जोहे ,
    केहू त आई छाती पर जामल घास सोहे ।
      टकटकी  टाह से लगा  के  देखत  देखत ,
        ना लउकत केहू कैंची लेके अब कहीं बा ।।


खम्हा पर तार बिजुरी के कहीं तार प खम्हा ,
     काहें बबुआ बात सुन भइल बाड़ अचम्हा ।
        सरकार ह$ चलत  चलत थाकल  थाकल 
           ना रफ़्तार में कहीं सही चलत अब रही बा ।।


टूटे असरा  जब  टूटे  घर में  लागल  ताला ,
    अबो त ओइसहीं बा लुटेरन के बोलबाला ।
      कहीं ठांय ठांय कहीं धांय धांय कहीं चुपके,
         ना डरे केहू बोलत अबो अब कहीं सही बा ।।


जवने खातिर अलगा भइनी उहे मिलल बखरा ,
    काहें नेता जी झटका दिहनी रउआ बड़का तगड़ा ।
      लुकाछिपी लुकाछिपी खेल में गइल गाड़ी आ झकड़ा ,
        राउरा लोगन के नेता जी सगरो होत बहा बही बा ।।


               
           ✍🏼
शैलेन्द्र कुमार तिवारी
ग्राम+पोस्ट : असहनी
जिला : छपरा ( सारण )
           बिहार


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image