परमानंद

 



तुम 
जैसे कोई 
मीठा लम्हा ! 


शाश्वत ताजगी
 से 
भरा हुआ! 


दिव्य स्मिति
 में 
लिपटा हुआ! 


आत्मा 
को 
ब्रह्मानंद की अनुभूति! 
 में 
डुबोता हुआ!! 


यादों की खूँटियों
 में 
टंँगा हुआ! 


 जिसमें भरा है
 मेरे 
जीवन का आकाश! 


जिसे जब चाहती हूँ 
मैं 
अपने हृदय की जमीं 
पर 
झुका लेती हूँ!


और
भर लेती हूँ 
अपने आगोश में!! 
प्राप्ति :
*परमानंद* की!!!


डॉ पंकजवासिनी
असिस्टेंट प्रोफेसर
भीमराव अम्बेडकर बिहार विश्वविद्यालय


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image