मेरे उलझे सपने

 


फिर से खुल जाएंगी गुच्छी
मेरे उलझे सपनों की
फिर मिल जाएंगी मंजिल
 आड़े-टेढ़े  रस्तों की,


 तोड़ूंगी अब सारे बंधन
सामाजिक अपवादों के
ओढूंगी अब चूनर केसरी
 मैं अपनी आजादी की,


आत्मसमर्पण बहुत हो चुका 
आत्मज्ञान अब पाना है
अपने सम्मान की रक्षा कर
जीवन को सुखद बनाना है,


 छोडूंगी अब हर आडम्बर
झूठे रिश्ते नातों का
जो मतलब से टूटे,बंधते
ऐसे कच्चे धागो का,


मन की लहरों पर तेरूंगी
ले भावों और विचारों को
फिर से मिल जाएगा साहिल
नौका और पतवारों को,


ह्रदय पटल पर अंकित होगी
 छवि स्वछंद विचारों की
अब होगी वर्षा केवल
स्वर्णिम स्वप्नों में सितारों की।।


                        (अनामिका लेखिका )
                               उत्तर प्रदेश


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image