कजरी

धरती हुलसलि तन गदराइल
बादर बरिसे पानी हो।


मलि-मलि गात लजात नहइली
हरियर चुनर पेन्हि इतरइली
लेइ निसानी हो,
गतरे-गतर प्रीत अँखुआइल
हरखित लेइ निसानी हो।


दादुर देखत रूप रिगावे
झींगुर मंगल सोहर गावे
बोलत बानी हो
मोरवा नाचि-नाचि अगराइल
निरखत बोलत बानी हो।


अनगिन धी-सुत आँचर छाया
अनहद झरे पसारे माया
रचल कहानी हो
चिगुदी-चिगुदी तन झँझराइल
सृजन क रचल कहानी हो।


देन लेन पर हरदम भारी
बिन स्वारथ निज तन के जारी
रीत पुरानी हो
कहियो तनिक शिकन ना आइल
इनके रीत पुरानी हो।


*संगीत सुभाष*


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image